Kya modi ek bar fir desh ke p.m. ban payenge|क्या मोदी एक बार फिर देश के पी.म. बन पाएंगे?Kya modi ek bar fir desh ke p.m. ban payenge|क्या मोदी एक बार फिर देश के पी.म. बन पाएंगे?Kya modi ek bar fir desh ke p.m. ban payenge|क्या मोदी एक बार फिर देश के पी.म. बन पाएंगे?Kya modi ek bar fir desh ke p.m. ban payenge|क्या मोदी एक बार फिर देश के पी.म. बन पाएंगे?Kya modi ek bar fir desh ke p.m. ban payenge|क्या मोदी एक बार फिर देश के पी.म. बन पाएंगे?Kya modi ek bar fir desh ke p.m. ban payenge|क्या मोदी एक बार फिर देश के पी.म. बन पाएंगे?Kya modi ek bar fir desh ke p.m. ban payenge|क्या मोदी एक बार फिर देश के पी.म. बन पाएंगे?Kya modi ek bar fir desh ke p.m. ban payenge|क्या मोदी एक बार फिर देश के पी.म. बन पाएंगे?Kya modi ek bar fir desh ke p.m. ban payenge|क्या मोदी एक बार फिर देश के पी.म. बन पाएंगे?Kya modi ek bar fir desh ke p.m. ban payenge|क्या मोदी एक बार फिर देश के पी.म. बन पाएंगे?Kya modi ek bar fir desh ke p.m. ban payenge|क्या मोदी एक बार फिर देश के पी.म. बन पाएंगे?Kya modi ek bar fir desh ke p.m. ban payenge|क्या मोदी एक बार फिर देश के पी.म. बन पाएंगे?



Kya modi ek bar fir desh ke p.m. ban payenge|क्या मोदी एक बार फिर देश के पी.म. बन पाएंगे?


बात उन दिनों की है,जब 2014 में नरेंद्र मोदी जी को बीजेपी ने प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोसित किया गया।तब किसी को पता नही था कि नरेंद्र मोदी कौन है।शहरो की बात छोड़ देते है,भाई गाओं में तो कोई नही जानता था कि मोदी कौन है।चुनाव का समय जैसे जैसे नज़दीक आने लगा वैसे वैसे मोदी को पुरे देश में जानने पहचानने लगे ,लोगो को लगने लगा अब ये ही है जो देश की नैया पार लगा सकता है। क्या बूढे और क्या बच्चे और तो और युवा वर्ग खासा मोदी जी से प्रभावित होने लगा ।और वो घडी आ ही गयी वो था रिजल्ट का दिन विपक्ष पार्टियों के नीचे से तो ज़मींन ही खिशक गई। बीजेपी पूर्ण बहुमत के साथ खडी थी और पूरा देश दिवाली मना रहा था और मोदी जी हमारे देश के प्रधानमंत्री बने।
सवाल उठता है क्या एक बार फिर मोदी जी का जादू चलेंगा।क्या मोदी जी एक बार फिर देश के पी.म. बन पाएंगे? 
कृपया वोट डालने जरूर जाये। जयहिंद
आशीष गायकवाड़ बेतुल म.प.

Comments

Popular posts from this blog

Rajniti ek daldal kyo | राजनीती एक दलदल क्यों?